Pusa Hydrogel Se Karen Fasal Ki Sinchai

पूसा हाइड्रोजैल

Pusa Hydrogel modern kheti

Pusa Hydrogel modern kheti

Whatsapp Support 9814388969

किसानों के लिए राहत भरी खबर, अब कम सिंचाई से होंगी फसल तैयार

जिन इलाकों में जलस्तर लगातार गिरता जा रहा है, वहां के किसानों के लिए एक राहतभरी खबर है। इंडियन काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चर रिसर्च(आईसीएआर) ने पूसा हाइड्रोजैल नाम का एक पदार्थ विकसित किया है, जो दो या तीन बार पानी देने वाली फसलों को सिर्फ एक बार की सिंचाई में तैयार कर देगा।

श्योपुर जिले के बड़ौदा कृषि विज्ञान केन्द्र ने इसका प्रयोग चना व गेहूं की फसलों पर किया है, जहां परिणाम उम्मीद से भी अच्छे आए हैं।

ऐसे काम करता है पूसा हाइड्रोजैल

पूसा हाइड्रोजल बारीक कंकड़ों जैसा है। इसे फसल की बुआई के समय बीज के साथ खेतों में डाला जाता है। जब फसल में पहला पानी दिया जाता है तो पूसा हाइड्रोजैल पानी को सोखकर 10 मिनट में ही फूल जाता है और जैल में बदल जाता हैै। जैल में बदला यह पदार्थ गर्मी या उमस से सूखता नहीं है। चूंकि यह जड़ों से चिपका रहता है, इसलिए पौधा अपनी जरूरत के हिसाब से जड़ों के माध्यम से इस जैल का पानी सोखता रहता है। यह जैल ढाई से तीन महीने तक एक सा रह सकता है।

खेत पर बुरा असर नहीं, अनाज का दाना भी बड़ा

बड़ौदा कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक चंद्रभान सिंह के अनुसार जिस खेत में चने व गेहूं के साथ यह पदार्थ डाला गया, वहां सिर्फ एक पानी में ही फसल तैयार हो गई। इतना ही नहीं पूसा हाइड्रोजैल के सहारे हुए चने का आकार भी दो बार की सिंचाई से हुए चने से बड़ा है। खास बात यह है कि इस पदार्थ से खेत में कोई बुरा असर नहीं हुआ।

एक एकड़ में 12 सौ का खर्च

अभी पूसा हाइड्रोजैल के दाम 1200 रुपए किलो हैं। एक एकड़ में बीज के साथ एक किलो पूसा हाइड्रोजैल बोया जाता है। जबकि बोरों से एक बार की सिंचाई में किसान को एक एकड़ के लिए 500 से 700 रुपए चुकाने पड़ते हैं। कृषि वैज्ञानिकों का कहना है कि जहां पानी ही नहीं वहां के लिए यह चीज वरदान है।        जय किसान जय विज्ञानं

Good News for  farmers

Now a farmer can do irrigation without water ,there  is  no need  of  water  for  fields  where farmers face  water  level  problem  or  water shortage .A farmer needs  only hydrogel for  his  fields.ICAR Indian council of agriculture and research  has  found  a get  named pusa hydrogel with  this  .where  a  crop need  3  to  4  tiles  water  it  could  prepare  crop  with  just  one  water  only.

This  is  tested  in shyopur   in Baroda distt. Where  it is  tested  on  wheat  and  pulses  crops  the  result  was  more  than expectations.

How  does Pusa Hydrogel works.?

Pusa  hydrogel  is  just  like  a  maize grain . when a farmer sow  his  crop he  could  spray with  seed of  crop  . after  this  when  farmers  do first watering then  hydrgel soak water in it  and become  puffy type  when  a  plant  grows , it  gets water  from hydrogel . it is  not gets dry  even  in summers  it  has  three  month  of  life .and  plant  gets moisture as  per  need.

No Side  effect  on  field  and  grain quality  gets  much better

Baroda Agriculture Scientist Dr. Chandarbhan Singh Said that with this  gel wheat  and pulse  crops  get  bets result with  single water  system . and  pulse grain  side  is  bigger  that traditional twice  irrigated crop .main  thing is  this  with  get there is  no  side  effect.

Pusa hydrogel cost (price of pusa hydrogel)

Pusa hydrogel price is  just 1200 /Kilogram. We  need  one  kilogram for  one  acre seed.agriculture specialists said  that  its  miracle for  those  farmers  where bog problem of  water. Jai Jawan Jai Vigiyan

Helpline  whatsapp 9814388969

 

 

 

X farmingX hydro gelX hydrogel ke sath sinchaiX irrigation wit hydrogelX khetiX Modern KhetiX organic farmingX pusaX pusa hydro gelX pusa hydrogelX पूसा हाइड्रोजैलX पूसाX हाइड्रोजैलX सिंचाई से होंगी फसलX सिंचाईX फसल

Related posts

Join us For New Updates!

मॉडर्न खेती की नई  जानकारी लेने के लिए लाइक बटन दबाये

Share Post