Aloe Vera Benefits For Animals in Dairy Farming अलोएवेरा को डेरी फार्मर फीड में पशुओं को दे

अलोएवेरा को  डेरी फार्मर फीड में पशुओं  को दे  और पाएं बहुत ही अच्छे नतीजे   Whatsapp Number 9814388969

aloevera-for-dairy-farming-cows

aloevera-for-dairy-farming-cows

Please Lecture Pura Padhen :-
अलोएवेरा  खुश्क  वातावरण में होता  है। हमारे पास बहुत किसान है जो अलोएवेरा को लगते  हैं और जेल  बना कर भी  बेचते  हैं।  अलोएव्रेर  बीस तरह से एमिनो एसिड , B12 ,कॅल्शिअम ,कापर ,लोहा ,ज़िंक ,मैगनिसिअम ,फॉस्फोरस,पोटाश की भरपूर मात्रा रखता है।

अलोएवेरा के पत्ते  से पीली सतह  और  हरी सतह  काट  कर  के  बीच  से  गुदा   निकल  कर या  जेल निकल कर  या  जूस  निकल  कर  दे सकते हैं।
modernkheti.com whatsapp 9814388969
अलोएवेरा एंटी बैक्टीरियल ,एंटी फंगल , इल्ली  रोग  प्रतिरोधक ,एंटी वायरल  और  सूजन प्रतिरोधक  होता  है।


अलोएवेरा  के लाभ :-

जोड़ों में नरमाई लाता  है
एनर्जी ऊर्जा बढ़ता  है।
दूध उत्पादन में बढ़ोतरी होती है और  दूध शुद्ध होता है।

गए  भैंस (पशुओं ) को बच्चा देते समय होने वाली परेशानियों में  कमी आती है।

पशुओं की  चमड़ी अछि होती है।  रिंग वोर्म  , खुजली वगेरा  नहीं होती। मस्से नहीं होते।
गठिया, पाचन समस्याओं, कान और आंख की समस्याओं, गैस्ट्रिक अल्सर, घास बीमारी, प्रतिरक्षा प्रणाली के मुद्दों, मुह से पानी आना , बुखार, किश्तीनुमा रोग, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस, घोड़ों के रोग को भी दूर करता है।
modernkheti.com whatsapp 9814388969
अलोएवेरा खिलने  की विधि :-
गए भैंस को 250 gram प्रति दिन प्रति पशु
छोटे बछड़े या बकरी भेड़  को 100 gram प्रति पशु प्रति दिन।


घोड़ों को अलोएवेरा की खुराक :-
60 – – 250 एमएल / दिन 2: गठिया के लिए।
100 – – 120 एमएल / दिन 3.4: पुराने घोड़ों के लिए।
250 एमएल / दिन: गैस्ट्रिक अल्सर के लिए।
लमिनिटिस  के लिए 200 एमएल / दिन लक्षण जब तक सुधार होगा।  120 एमएल / दिन कम करें।
रखरखाव के लिए, 60 एमएल / दिन पर रहते हैं।

पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस के लिए  250 एमएल / दिन।  60 एमएल / दिन में कमी जैसे लक्षण में सुधार होगा। उस स्तर पर बनाए रखें।

एक एंटीसेप्टिक के रूप में लाभ

त्वचा में खुजली कम कर देता है।
सूजन हो जाने पर ।

ज़ख़्म की पीड़ा में कमी करता है।
जले पर ,कटे पर
कीड़े के  डंक मारने पर
थनेला रोग के लिए  हमारा दूसरा पोस्ट भी पढ़  सकते हैं।
ज़ख़्म को साफ़  करें और  उसपर  जेल  लगाए  और  कपडे से  बांध  दे।

अलोएवेरा के जेल और   जूस को कांच  की बोतल  या मर्तबान में ही रखें प्लास्टिक  का उपयोग  न करें। इस से केमिकल रिएक्शन होता है।  और ठंडी जगह  पर और खुश्क जगह  पर  रखें।  और डॉक्टर की सलाह भी लेते रहें।

एलो वेरा जेल या पत्ते खरीद कर आप अलोएवेरा की खेती को और  भी प्रौत्साहन दे सकते हैं। हम तो ये  कहते हैं।  की  हर किसान को जिसके पर पशु हैं आधा एकड़ अलोएवेरा भी लगाना चाहिए।  खुद भी  खाइये और पशुओं को भी दीजिये हमसे जुड़ने के लिए और अधिक जानकारी के लिए हमारी whatsapp की मेम्बरशिप फीस 500 rs एक साल के  लिए दे कर इस नंबर पर 9814388969 जुड़ सकते हैं  और नई नई  तकनीक सीख सकते हैं। डेरी और खेती की जानकारी और मशीनरी , बीज पौध की जानकारी पा सकते हैं

Aloevera Plant Price Min 5 to 20 Rs Max Per KG

modernkheti.com whatsapp 9814388969

 


X अलोएवेरा को डेरी फार्मर फीड में पशुओं को देX अलोएवेराX डेरी फार्मरX फीड में पशुओं को देX aloe veraX aloe vera benefits in dairyX aloevera benefits in dairy farmingX aloe vera benefits for cowsX aloevera for animalsX benefits of aloeveraX aloevra in feedX desi medicineX veternar

Related posts

Join us For New Updates!

मॉडर्न खेती की नई  जानकारी लेने के लिए लाइक बटन दबाये

Share Post