Adrak Ki Kheti Kaie Karen ,Ginger Farming Hindi

ginger farming

खेती बाड़ी  की जानकारी  लेने के  लिए  हमारा ये नंबर 9814388969 अपन्ने व्हाट्सप्प में  सेव  करें  और  हमें  अपना  नाम  पता  बताएं और  खेती  डेरी फार्मिंग की नई  तकनीक सीखें धन्यवाद modernkheti.com

अदरक की  खेती के लिए ज़मीन का चुनाव :- अदरक की खेती के लिए अच्छी ज़मीन दोमट रेतीली और मेरा ठीक है।  इसके लिए खेत  को अच्छे से तैयार कर सकते हैं। और लाइन्स में ड्रिप लगा कर  और मल्चिंग (dhan se ) बिछा कर अच्छे फायदे   भी  ले  सकते  हैं। खेत एस  हो  जहां पानी  न  रुके। बगीचे में या बाग़ में  भी  इसको लगा सकते हैं।

ये काम से काम आठ से नौ महीने की फसल है।  इसको अगर रेट काम है  तो खेती  में  जियादा दिन भी रख सकते हैं  जिस से इसका  कोई  नुक्सान नहीं होता। इसकी मल्चिंग  जरूरी  है चाहे  तो पुआल से  करें  चाहे  शीट से। बहुत  जियादा  धुप   न  लगे , बहुत  जियादा बारिश  न  लगे

इसके  जून  के  बाद  लगाना   चाहिए तापमान  बहुत  जियादा  न  हो चालीस डिग्री से  ऊपर  न हो

 

बीज की मात्रा :- अदरक की जड़ को लगाया जाता है  जैसे हम हल्दी लगते हैं। इसके लिए आठ से दस क्विंटल प्रति एकर बीज की जड़ें लगती हैं। जो की रोग मुक्त और अच्छे हों इनको चार से पञ्च सेंटमेटर के टुकड़े कर लिए जाते हैं। जिसमे हरेक टुकड़े का भार  पचीस से तीस ग्राम होना चाहिए। एक बीज में दो ऑंखें होनी जरूरी हैं।

बीज सोध :- बीजने से पहले बीजोपचार करना जरूरी है आर्गेनिक के लिए हमारा लेक्चर बीज अमृत देखें। या फिर 0.25 M -45 aur Baviston 0.1 के मिक्स घोल में चौबीस घंटे के लिए रखें फिर छव में सुखाये। और  इसके बार लाइन बना  कर चार inch  मिटटी में दबा दें। लाइन तो लाइन दूरी 2 Fut  और पौधे से पौधे की दूरी 4 Inch  होनी चाहिए

Whatsapp for seeds 9814388969 send ur name  and  complete  address

अच्छी किस्में :- अदरक की किस्में सुरुचि ,सुप्रभा ,और सुरभि या रजत ,वरदान और भी बहुत सारी  देसी बीज  हैं।

आरती किस्म समुंद्री किनारों के लिए है।

अधरक की खेती की सिंचाई :-अदरक की मिटटी में  पर्यापत नमी होनी जरूरी है। एक सिंचाई  लगने  के दो दिन  बाद लगाए। इसके लिए  अगर  तुपका  सिंचाई  या ड्रिप सिस्टम हो  तो बहुत  ही अच्छा  होता है। पनि भी  जियादा  नहीं लगता। वैसे  तो अदरक गर्मी का  पौध  है लेकिन  नमी  वाली  जगह  पर  भी  अच्छा   होता  हैं।

 

अदरक  की  खाद :-  अदरक  की खेती  से  पहले  मिटटी की जाँच करवानी जरूरी है इसके लिए  आप  हमारे व्हाट्सप्प नंबर  पर  भी  कांटेक्ट  कर सकते हैं। इसके लिए एक एकर में  दस टन  गोबर  की खाद ,

डेढ़ क्विंटल न्यट्रोजन

साठ किलो फ़ॉस्फ़ोरस

एक सो बीस किलो पोटाश

ज़िंक मिटटी की जाँच के हिसाब से

सल्फर एक किलो प्रति एकर डालें

लोहा आयरन सल्फेट मिटटी की जाँच के हिसाब से

खाद डालने का ढंग :- गोबर खाद डाल  कर  हल से अच्छे से खेत   में  मिक्स  कर  दें। लेकिन बाकि तत्व बुआई से पहले आधे  ही डालें  और बाकि के  आधे  दो महीने बाद  डालें। पचास +पचास +पचास 3 बार

 

 

रोग:- फफूंदी रोग :इस  से  नीचे  की पत्तों  पीली  हो जाती हैं  और  पौध  कमज़ोर  हो जाता  है। और  जध से जल्दी टूट जाते हैं।  ये  मिटटी में भी  हो सकते हैं। इसके लिए  फोटो भेज  कर हमारे  से व्हाट्सप्प पर  कांटेक्ट  करें।

 

पत्ती  पर  धब्बे :-

 

खरपतवार :- निराई गुदई  करें  और  मिटटी चढ़ाये काम से काम तीन गुंडई  करें  या  मल्चिंग शीट  ऑनलाइन  हमारे  वेबसाइट से  खरीदें।

अदरक सीधा बाजार में बेच सकते हैं| एक एकर  में  आठ से नो टन प्रति एकर होती हैं।

अदरक का जूस भी  बिकता  है।
अदरक देसी दवाइओं में भी डलता है।
अदरक खाने में मसाले के तौर  पर भी डलता है।

 

खेती बाड़ी  की जानकारी  लेने के  लिए  हमारा ये नंबर 9814388969 अपन्ने व्हाट्सप्प में  सेव  करें  और  हमें  अपना  नाम  पता  बताएं और  खेती  डेरी फार्मिंग की नई  तकनीक सीखें धन्यवाद modernkheti.com

 

Job Search
job title, keywords, company, location
jobs by

job search

jobs by Indeed job search

 

tags

X gingerX gingger farmingX ginger ki khetiX adrak ki khetiX adhrak ki khetiX adrak ki modern khetiX देसी बीजX अदरक की खेती के लिए ज़मीन का चुनावX अदरक की खेतीX अदरकX खेतीX modern khetiX modernkheti.com

Related posts

Join us For New Updates!

मॉडर्न खेती की नई  जानकारी लेने के लिए लाइक बटन दबाये

Share Post